___________________________________________________मुजफ्फरनगर जनपद के १००किमी के दायरे में गंगा-यमुना की धरती पर स्थित पौराणिक महाभारत क्षेत्र
_____________________________________

                                                                          _________________________________________ _____________मुजफ्फरनगर जनपद के १०० किमी के दायरे में गंगा-यमुना की धरती पर स्थित पौराणिक महाभारत क्षेत्र

________________________________________

मिठास की भूमि है यहां                                     खांड का कटोरा कहते है इसे                                  मीठा ही गन्ना होता है यहां मीठा ही पानी है यहां का

पश्चिमी उत्तर प्रदेश -हरित क्रांति ने यहां खेती का ट्रेंड ही बदल दिया और नकदी फसल गन्ना यहां की जीवन रेखा बन गया। इस इलाके में गन्ना मार्केट की भी जान है। गन्ने का सीजन आता है तो बाजार सजने लगते हैं, किसान को गन्ने का अच्छा भाव नहीं मिलता तो बाजार में मंदी छा जाती है।

ब्राजील के बाद भारत सबसे अधिक चीनी का उत्पादन करता है। यानी, दुनिया में चीनी उत्पादन में अपने देश को नंबर दो बनाने में पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसानों की अहम भूमिका है।

इस क्षेत्र में देश में सबसे अधिक चीनी मिले हैं।

गन्ने के साथी यहां कोल्हू कुटीर उद्योग भी बड़ी संख्या में लाेगाे को रोजगार देता है।

जार ही नहीं राजनीति का हथियार भी गन्ना है।

गन्ना आंदोलनों ने कई बार केंद्र सरकारों को हिला कर रख दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *