____________________________________________________ मुजफ्फरनगर जनपद के१००किमी के दायरे में गंगा – यमुना की धरती पर स्थित पौराणिक महाभारत क्षेत्र

_________________________________________

सहारनपुर नगर के प्राचीन शिवालय –

मराठों ने अपने शासनकाल 1789 -1803 ई. के दौरान सहारनपुर नगर में कई शिवालयों की स्थापना करवायी थी। इन मंदिरों में पांवधोई नदी के तट पर भूतेश्वर महादेव मंदिर, कंपनी बाग स्थित बागेश्वर महादेव मंदिर, कोर्ट रोड स्थित पाठेश्वर महादेव मंदिर, रानी बाजार स्थित पातालेश्वर महादेव मंदिर है । पांवधोई नदी के उद्गम स्थल शकलापुरी गांव स्थित शंकेश्वर महादेव मंदिर को भी मराठा काल में निर्मित माना जाता है। यह सब प्राचीन मंदिर लखौरी ईटों से निर्मित है मंदिर के पास ही साधु संतों की अनेक समाधियां स्थित हैं। मंदिरों के पास ही बेल के अनेक वृक्ष लगाए गए थे। बिल्वपत्रों का शिवजी की पूजा अर्चना में बहुत महत्व है। इसीलिए शिव मंदिरों के पास बेल के वृक्ष लगाए जाते हैं।

भूतेश्वर महादेव मंदिर –

पतितपावनी गंगा का स्वरूप मानी जाने वाली पांवधोई नदी के तट पर स्थित भूतेश्वर महादेव मंदिर सबसे महत्वपूर्ण है।

सहारनपुर वासियों के लिए यह मंदिर आस्था का बड़ा केंद्र है इस प्राचीन मंदिर का मराठा कालीन शिल्प और स्थापत्य का अद्भुत भव्य दृश्य हर किसी को अभिभूत कर देता है

भूतेश्वर महादेव मंदिर के परिसर में मराठा काल की बनी हुई छतरियां स्थित है। ये यहां तपस्यारत संतो की ‘इच्छा समाधियां’ हैं। जो मराठा काल की सुंदर स्मारक हैं। इन सब में सबसे बड़ी छ्तरी सबसे पुरानी है। इस समाधी का सुंदर अलंकृत आकृतियों से सुसज्जित चार स्तंभों पर ज्यामितीय मापदंडों के अनुरूप बना गुंबद शिल्प के दृष्टिकोण से बेजोड़ है। इन्हीं सब में एक छतरी जिसके 12 स्तंभ बनाए गए हैं।, इसी प्रकार अन्य छतरियां भी इसी प्रकार बनाई गई है।

* रानी बाजार स्थित श्री बाबा पातालेश्वर महादेव मंदिर के वार्षिक उत्सव के अवसर पर विशाल एवं भव्य शोभा यात्रा का आयोजन किया जाता है।

* मराठा शासनकाल में निर्मित चार प्राचीन सिद्ध पीठों में से एक चकरौता रोड स्थित श्री बागेश्वर महादेव मंदिर । इस मंदिर के भव्य प्रवेश द्वार पर भगवान शिव की नृत्य करती हुई मूर्ति बनवाई गई है।

* मराठा शासन काल में ही निर्मित चार प्राचीन सिद्ध पीठों में से 1 कंपनी बाग के द्वार पर स्थित श्री बागेश्वर महादेव मंदिर । इस मंदिर के परिसर में भगवान शिव की स्नान मुद्रा वाली प्रतिमा स्थापित है। जो श्रद्धालुओं के आकर्षण का केंद्र रहती है।

_____

सहारनपुर के

* मोहल्ला बड़तला यादगार स्थित – श्री नगर देवता मंदिर
लोगों की आस्था और श्रद्धा का केंद्र है।

* अंबाला रोड स्थित श्री सिद्ध पीठ राधा कृष्ण मंदिर शहर के अति प्राचीन मंदिरों में एक है। मंदिर में विराजमान श्री राधा कृष्ण की प्रतिमाएं श्रद्धालुओं की आस्था और विश्वास का केंद्र है।

* मोहल्ला चौंताला स्थित सिद्ध पीठ प्राचीन हनुमान मंदिर इस मंदिर में स्थापित साधु-संतों और ऋषियों की समाधियां मंदिर की प्राचीनता का प्रमाण है। इस मंदिर में आने वाले श्रद्धालु देवी-देवताओं के साथ ही इन समाधियों की भी पूजा-अर्चना करते हैं।

* भूतेश्वर नगर स्थित श्री बदरी धाम मंदिर एवं
श्री सिद्धबाबा शिवनाथ जी महाराज का समाधि स्थल।
यहां स्थापित 21 फुट ऊंची भगवान शिव की भव्य मूर्ति लोगों की आस्था और श्रद्धा का केंद्र है। इस प्रतिमा के दर्शन करने के लिए प्रतिदिन यहां शहर के कोने-कोने से श्रद्धालु पहुंचते हैं।

* चकराता रोड स्थित श्री बागेश्वर महादेव मंदिर

* बाबा लाल दास मार्ग पर बैकुंठ धाम विश्वनाथ मंदिर

इस मंदिर के प्रांगण में स्थापित 90 फीट ऊंची हनुमान जी की प्रतिमा श्रद्धा का केंद्र है इस प्रतिमा में 200 करोड़ राम नाम शब्द को लिखकर रखा गया है।

* राधा विहार स्थित महाशक्ति वैष्णवी महाकाली मंदिर और पवित्र गुफा इस मंदिर में पूरे वर्ष समय-समय पर धार्मिक आयोजन होते रहते हैं।

* राधा विहार स्थित औघड़ दानी नर्मदेश्वर महादेव मंदिर
इस प्रसिद्ध मंदिर में भी पूरे वर्ष धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन समय-समय पर होता रहता है।

* बाबा रिजक दास श्री सिद्ध किराना मंदिर

* अंबाला रोड स्थित स्वामी रामतीर्थ केंद्र

* रामकृष्ण विवेकानंद अद्वैत आश्रम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *