__________________________________________________मुजफ्फरनगर जनपद (उ.प्र.-भारत)के १०० कि.मी. के दायरे में गंगा-यमुना की धरती पर स्थित पौराणिक महाभारत क्षेत्र
_____________________________________

निजानंद आश्रम – रतनपुरी गांव

एकता एवं सद्भावना के आध्यात्मिक पथ पर आकर्षित करने वाला निजानंद आश्रम रतनपुरी गांव में एक अत्यंत मनोरम स्थल है।

यह आश्रम मुजफ्फरनगर जनपद में खतौली कस्बे के पास खतौली-बुढाना मार्ग के बीच रतनपुरी गांव में स्थित है।

विशाल एवं भव्य आश्रम में प्रवेश करते ही श्रद्धालु समस्त राग- द्वेष को भूलकर द्वार पर लगी महाराज श्री राम रतन दास जी की प्रतिमा के समक्ष नतमस्तक होकर उनकी मधु स्मृति में खो जाता है।

श्री प्राणनाथ प्यारे जी की अमृतमयी ब्रह्मवाणी मिथ्या जगत के अंधकार को दूर करके आत्म जागृति का मार्ग प्रशस्त करती है।


यह आश्रम पूर्ण ब्रह्म परमात्मा की उपासना का केंद्र है। आश्रम के प्रति अनेकों दिग्गज राजनेताओं, नौकरशाहों एवं देश-विदेश से आने वाले लाखों श्रद्धालु भक्तजनों के अटूट विश्वास है।

श्रावण मास में यहां एक विशाल मेला एवं भंडारे का आयोजन किया जाता है। इस अवसर पर महाराज श्री के प्रवचनों को सुनकर श्रद्धालु भावविभोर हो उठते हैं। प्रातः काल की आरती के समय सुंदर वातावरण में श्रद्धालु भक्त झूम झूम कर भक्ति के गीत गाते हैं। ऐसा आनंदमय वातावरण हर किसी को प्रसन्नता से भर देता है।

निजानंद आश्रम संपूर्ण मानव जाति के लिए कल्याणकारी संप्रदाय है और मानव के अंदर सत्य को जागृत कर सच्चिदानंद परब्रह्म परमात्मा के ध्यान में संलग्न करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *