ब्रहमा जी के पुत्र पक्ष की राजधानी भगवान शिव की सुसराल ह
कनखलदक्ष प्रजापति की पुत्री महामाया सती का मायका है यही शिव शंकर की ससुराल भी है।
यह घटना सतयुग की है।
शिव को अपमानित करने के लिए दक्ष ने एक बड़े यज्ञ का आयोजन किया था और उसमें अपनी बेटी सती वह दाामद ‌‌‌शिव को जानबूझकर नहीं बुलाया था शिव के मना करने पर समझाने के बावजूद महासती नहीं मानी और शिव गणों के साथ सती कनखल आई

देवताओं ऋषि-मुनियों से भरी सभा में जब पिता दक्ष ने पति के लिए अपमानजनक शब्द कहे तो क्रोध में योगा अग्नि से उन्होंने अपने शरीर को भस्म कर लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *