_____________________________________________जानिए – – –

मुजफ्फरनगर जनपद (उ.प्र.-भारत) के १००कि.मी. के दायरे में गंगा-यमुना की धरती पर स्थित पौराणिक महाभारत क्षेत्र के एक और स्थान के बारे में – – –

_____________________________________________

देहरादून जनपद में सौंग घाटी का विशाल क्षेत्र स्थित है।सौंग नदी दून घाटी की एक प्रमुख नदी है। यह नदी वीरभद्र के पास गंगा नदी में मिल जाती है।सौंग नदी घाटी का एक भाग देहरादून जनपद में है और दूसरा भाग टिहरी जिले में पड़ता है।

ये सारा क्षेत्र‌ पिछड़ा और उपेक्षित है। यातायात के लिए सड़कों और नदियों पर पुलों के अभाव से लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।

इस क्षेत्र में धनौल्टी विधानसभा क्षेत्र के सौंधना गांव में सौंग नदी पर बांध बनाने की उत्तराखंड सरकार की महत्वाकांक्षी योजना प्रस्तावित है।सौंग नदी पर बांध बनने के बाद देहरादून शहर की पेयजल की आवश्यकता भी पूरी की जा सकेगी।

प्रस्तावित सौंग बांध परियोजना के तहत लगभग 1100 करोड़ रुपयों की इस योजना से साढ़े 4 किलोमीटर लंबा और 128 मीटर ऊंचा कंक्रीट बांध बनाया जाएगा। इस बांध से बनने वाली झील से 2 गांव के लोग विस्थापित होंगे।

सौंग बांध क्षेत्र पर्यटन घाटी के तौर पर विकसित किया जाएगा। यहां 20 से 25 पनचक्कियों का कलस्टर बनाया जाएगा। यह देश की एक मॉडल परियोजना होगी। बांध और उससे बनने वाली झील पर्यटन के आकर्षण का केंद्र बनेगें।

सौंग बांध की 4 कि.मी. लंबी झील के आकर्षण से पर्यटन को बढ़ावा मिलने पर स्थानीय लोगों को रोजगार के अवसर मिलेंगे।

इस बांध को अगले क‌ई दशकों तक समूचे देहरादून की पेयजल समस्या को दूर करने के लिए डिजाइन किया गया है। इस बांध के बनने पर देहरादून को हर दिन उसकी जरूरत के पेयजल की आपूर्ति की जा सकेगी।

बांध की झील बनने से भूजल रिचार्ज होगा।

देहरादून में पेयजल की आपूर्ति के लिए ट्यूबवेल नहीं चलने से बिजली खर्च में लगभग सैकड़ों करोड़ रुपयों की बचत होगी।

बांध के पानी से इलाके की एक अन्य महत्वपूर्ण रिस्पना नदी को रिचार्ज करने में मदद मिलेगी।

सौंग नदी में आने वाली बाढ़ के खतरे कम होंगे।

* * * * *

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *