_____________________________________________________मुजफ्फरनगर जनपद के १०० किमी के दायरे में गंगा-यमुना की धरती पर स्थित पौराणिक महाभारत क्षेत्र
______________________________________

चौरासी कुटिया – शंकराचार्य नगर, स्वर्गाश्रम

विश्व की योग राजधानी ऋषिकेश में राम झूला पार करने के बाद स्वर्ग आश्रम परिसर के पीछे आध्यात्मिक गुरु महेश योगी की तप स्थली रही ऋषिकेश का चौरासी कुटिया आश्रम। कई एकड़े क्षेत्रफल में फैले पूरे आश्रम में की गई रंग बिरंगी चित्रकारी मन को मोह लेती है। इसी तपोभूमि से मौन साधना कर निकले महेश योगी ने पूरी दुनिया में अपने ज्ञान का परचम फैलाया था। महेश योगी के देश विदेश के तमाम शिष्य यहां भावातीत ध्यान योग सीखने आते थे।

यह आश्रम पूरी दुनिया में सन1960 से प्रसिद्ध हो गया जब बिटल्स व अन्य हस्तियां यहां अपने गुरु महेश योगी के पास आने लगे थे।

महर्षि महेश योगी के बुलावे पर बीटल्स के सदस्य जान लेनॉन, पाल मैकार्टनी, जार्ज हैरीसन, और रिंगो स्टार अपने परिवार और करीब 300 अन्य लोगों के पूरे लवाजमे के साथ फरवरी 1968 में भारत आए थे और महर्षि महेश योगी के चौरासी कुटिया आश्रम में रुके थे।

अपनी उस यात्रा के दौरान रॉक बैंड बीटल्स के सदस्यों ने गंगा के किनारे कई कालजयी गीत रचे।

रॉक बैंड के सदस्यों ने क‌ई गीतों को लेकर मशहूर व्हाइट एल्बम तैयार किया, एब्बे रोड और लेट इट बी एल्बम के कई गीत रचे। जिनमें ‘द व्हाइट एलब्म’ का गीत ‘द मदर नेचर्स सन’ ऋषिकेश के प्राकृतिक सौंदर्य का बखान करता है।

महर्षि महेश योगी बाद में विदेश चले गए। उनके विदेश में रहने के कारण कई एकड़ जमीन में फैला चौरासी कुटी आश्रम कई सालों तक विरान पड़ा रहा। लेकिन बाद में उनके इसे छोड़ने के बाद यह स्थान बिल्कुल वीरान हो गया। उजाड़ पड़े बीटल्स आश्रम को देखकर सहसा कोई यकीन नहीं कर सकता था की कुछ दशक पहले यहां ऐसा संगीत रचा गया था।

शंकराचार्य नगर स्थित चौरासी कुटिया आश्रम राजाजी नेशनल पार्क के टाइगर रिजर्व के किनारे स्थित है। उत्तराखंड सरकार ने चौरासी कुटी आश्रम को योग पर्यटन का केंद्र एवं इको टूरिस्ट हब के रूप में विकसित किया है। दुनिया भर के पर्यटक अब इसे देखने के लिए पहुंचते हैं। बीटल्स ग्रुप के यहां ठहरने से लेकर भावातीत ध्यान योग केंद्र के बारे में जानने के लिए पर्यटक खासे उत्सुक नजर आते हैं। विदेशी पर्यटकों के साथ ही देश के विभिन्न हिस्सों से आए पर्यटक भी इसमें खूब रुचि दिखाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *