_________________________________________________मुजफ्फरनगर जनपद के १०० किमी के दायरे में गंगा-यमुना की धरती पर स्थित पौराणिक महाभारत क्षेत्र
_____________________________________

अपराध की दुनिया में अपना रुतबा कायम रखने वाला मुज़फ्फरनगर

एक समय ऐसा भी था, जब पूरे देश में मुजफ्फरनगर को अपराध की राजधानी कहा जाता था। यहां अपहरण एक उद्योग बन गया था और करोड़ों की रंगदारी वसूली जाती थी। जेल में बैठे आकाओं के इशारे पर हत्याएं की जाती थी।
जेल से फर्जी सिमों के जरिए धमकाने और वसूली की जाती थी। जेल में बैठे बैठे ही बड़े अपराधी अपने शूटरों से दिन दहाड़े हत्याएं करवा देते थे।

यहां से व्यापारियों, भट्टा स्वामियों और उद्यमियों का पलायन हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *