__________________________________________________ मुजफ्फरनगर जनपद के१०० किमी के दायरे में गंगा – यमुना की धरती पर स्थित पौराणिक महाभारत क्षेत्र

_________________________________________

गंगा-यमुना के महाभारत क्षेत्र में ही स्थित आहार गांव एक पौराणिक स्थान है।

जनपद बुलंदशहर मैं स्थित आहार गांव अनूपशहर से 12 कि मी दूर है।

इसका प्राचीन नाम अहिहर है। वर्तमान समय में इसे आहार नाम से जाना जाता है।

 

जब महाभारत युद्ध के बाद पांडव अर्जुन के पौत्र परीक्षित को हस्तिनापुर का राज्य देकर द्रौपदी सहित स्वर्गारोहण को चले गए। महाराजा परीक्षित के शासनकाल में कलयुग का इस पृथ्वी पर आगमन हुआ। कलयुग के प्रभाव से ऋषि के शाप देने से  महाराजा परीक्षित को तक्षक नाग ने डस लिया तब उनके पुत्र जनमेजय ने समस्त नाग जाति को नष्ट करने के लिए नाग- यज्ञ किया। कहा जाता है कि वह नाग- यज्ञ इसी आहार में हुआ था। उस नाग-यज्ञ को जिन नागर ब्राह्मणों ने संपन्न कराया था उनके वंशज आज भी इस आहार क्षेत्र में रहते हैं।

यहां गंगा किनारे मां अंबिका देवी का प्राचीन मंदिर है। भगवान श्री कृष्ण की पटरानी रुकमणी देवी  भी आहार की माना जाता हैं। रुकमणी यहां देवी मंदिर में पूजा करने के लिए आती थी। वह देवी की पूजा करने के बाद वर मांगती थी कि मुझे पति मिले तो श्री कृष्ण ही हों।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *